बुधवार, 24 मार्च 2010

दिल को दिल की बात सुनाने को दिल करता है

दिल को दिल की बात सुनाने को दिल करता है,
कुछ भूली बिसरी बात सुनाने को दिल करता है।
उनकी जुल्फें बिखरी बिखरी जैसे हों काले बादल,
उनकी चितवन मदहोशी का फैला है जैसे आँचल,
लब उनके ऐसे जैसे पगे हों अमृत रस की धार में,
उन होठों से पीकर खिल जाने को दिल करता है।
उनकी आँखें चंचल चंचल, हों जैसे मृग के दो नैन,
जिन चितवत हो जाए उसे मिले है मन का चैन,
छल छल करती उन आँखों में ठाठें मारे सागर,
सागर के उस गागर में डूब जाने को दिल करता है।
वो चलती हैं तो खिल जाते हैं शत शत नील कमल,
उनके छू लेने से हो जाते हैं कृष्ण भी श्वेत धवल,
पत्थर को छूती हैं तो उनमे जीवन भर जाती हैं,
उनकी राहों में बस बिछ जाने को दिल करता है।
काया उनकी कंचन कंचन बिखराए है स्वर्ण किरण,
रंग दे अपने रंग में सबको ,दे दे मृत को भी जीवन,
चाहूँ उनका साथ मैं हर पल अपने जीवन में हे देव,
हर पल बस उनमे ही अब रम जाने को दिल करता है।
दिल को दिल की बात सुनाने को दिल करता है।
कुछ भूली बिसरी बात सुनाने को दिल करता है।
-नीहार