शुक्रवार, 6 सितंबर 2013

चलो चलें गाँव की ओर......

कूकत कोयल नाचत मोर,
चाँद बुझा के आ गई भोर ।
टिन के छत पे बारिश बूँदें,
दय दय ताल करत हैं शोर ।
जंगल जंगल खबर है फैली,
नर नारी  हुये आदमखोर ।
आदम के नीयत का नहीं,
मिलता कहीं ओर या छोर ।
हर एक को नीचा दिखाने ,
यहाँ लगी है सब में होड़ ।
प्रगति का लेखा मत देखो,
ये देश चला रसातल ओर ।
हर नेता भाषण में कहता,
तारे लाएगा आसमाँ तोड़ ।
हर अमीर जी रहा पी कर,
यहाँ गरीब का खून निचोड़ ।
संसद का मत हाल तू पूछ,
लड़ते सब वहाँ कुर्सी तोड़ ।
कौन कितना बड़ा असंत है,
संतों में लगी इसकी है होड़ ।
टिकट उसे देगी हर पार्टी ,
जो चोरों का होगा सिरमौर ।
देश तरक्की पर है साहब,
रुपया भले हुआ कमजोर ।
शहर मिजाज़ बदल चुका है,
चलो चलें हम गाँव की ओर ।
- नीहार