रविवार, 27 मार्च 2011

कुछ मीठी कुछ खट्टी

वो तुमको इतना चाहता है की -

खुदा बना देता है,

तुम उसको चाह के -

कम से कम इंसान तो बना डालो।

*******************************************पूर्ण समन्वित

यूँ पलकों पे ,

ख्वाब उतर जाने दो -

आवारा बादल सा ,

भटक रहा मैं -

मुझको अपने घर जाने दो।

********************************************

गर्मियों के मौसम में,

कुछ यूँ किया जाए -

आपकी आँखों के समंदर में,

कुछ पल तैर लिया जाए।

********************************************

आजकल वो -

नकाब के बिना ही निकलता है...

सुना है -

आफताब ने अपना काम,

उसे आउटसोर्से कर दिया।

*********************************************

यमराज ने -

जब से खोल रक्खा है,

इंडिया में अपना कॉल सेंटर -

रोंग नंबर की तादाद,

बढती ही जा रही।

***********************************************

म्यूजिक कम्पोजर्स ने -

जब से धुन सुना के ,

गीत लिखवाये....

कोयलें भूल गयीं -

गा गा के कूकना।

*************************************************