रविवार, 25 अगस्त 2013

कुछ उक्ति कुछ कटुक्ति......

मनुज जनम जौं लीजिये,
कीजिये कुछ ऐसा काम ,
सुमार्ग पर चलते रहिये,
ले कर प्रभु का बस नाम ।
मन को साधे सब सधे,
तन को साधे वो निरोगी,
जो धन को भी साध लै,
उस से बड़ा न कोई जोगी।
करत करत उपवास के ,
शरीर होइ जात दुबलान,
हड्डी पसली सब दिखन लगे,
और गायब हुई मुस्कान ।
जात न पूछो साधु की ,
सब व्यभिचार में हैं लिप्त,
निस दिन धन अर्जन करे,
फिर भी मन ना होये तृप्त । 
चोर उचक्के बेईमान सब,
गद्दी पे हुए हैं शोभायमान,
अपना हित साधने के लिये,
पक्ष प्रतिपक्ष हुये एक समान ।
नारी जहाँ सदा थी पूजिता,
वहाँ नित होए उनका अपमान,
फिर किस मुँह से हम कह रहे,
कि है मेरा ये भारत महान ।
सोने चाँदी का हर मन्दिर में
होता नित दिन ही व्यापार,
देश दुर्दशा पे फिर शोर क्यों,
और क्यों मचा हुआ हाहाकार ।
खंड खंड हुआ उत्तराखंड और,
क्षत विक्षत हुआ हर तीर्थस्थान,
हर घायल की गति लुटी हुई,
और लाचार हुआ है भगवान ।
सीमा पर चल रही गोलियाँ,
होता घायल हर वीर जवान,
शयनागार में सुख की नींद,
ले रहा है सारा हिन्दुस्तान ।
घोटाला जो जन  नित करे ,
वो पाये सरकार से सम्मान,
जो दुंदुभी बजा पर्दाफाश करे,
उसका नित दिन होय अपमान ।
हिन्दू मुस्लिम लड़ रहे और,
यहाँ लड़ रहे सिक्ख ईसाई,
जाति धरम के नाम पर रोज,
यहाँ खोदी जाती है नई खाई ।
बच्चों का लालन पालन करे ,
जो माँ बाप करा  दुग्ध पाण,
एक पानी की बूँद को तरस,
वो बुजुर्ग फिर तज देते प्राण ।
बिजली बिन सब सून है,
क्या शहर और क्या गाँव,
धूप भी खोज रहा है यहाँ,
अपने लिये ठंडी ठंडी छाँव ।
चोरों और बेईमानों का यहाँ,
है फलता फूलता साम्राज्य,
सत्य राह पर चलना यहाँ, 
हुआ दुष्कर और त्याज्य ।
बॅालीउड के हीरो सभी ,
फिल्मों में दिखते जैसे शेर,
रियल लाइफ में वे सभी,
पर होते हैं गीदड़ भेड़ ।
राम के नाम पर लूट है,
जो लूट सके वो है राजा,
"समय अभी" पर यह खबर,
है बिलकुल ताजा ताजा ।
निहरा करता बंद अपना,
ये निरा अनर्गल प्रलाप,
वरना आपको जगाने का,
उस पर लग जायेगा पाप ।
सोये रहिये  सुख चैन से,
बिकने दीजिये यह देश,
शून्य की खोज जहाँ हुई,
वह शून्य में हो रहा शेष ।।
- नीहार ( चंडीगढ़,अगस्त २५,२०१३)