रविवार, 3 अगस्त 2008


तुम्हारी आँख से काजल चुरा लूँ, आ तुझे तुझसे चुरा लूँ।

तेरे लिए गीत बुनता हूँ हर घड़ी, तू कहे तो साज से सरगम चुरा लूँ।

आ तुझे दिल में छुपा लूँ, आ मैं तुझे तुझको दिखा दूँ...।

**********************************************

सरसों सी पीली धूप खिली, ठंडी मस्त हवा है चली,

फूल फूल और पत्ते पत्ते पर दिलकश रौशनी है जली ।

सुबह कोयल की कूक सुन मुझे तेरी कमी है खली.

***********************************************
तेरी नींद उड़ने को जी चाहता है, ख्वाबों में तेरी आने को जी चाहता है।

रात भर तेरे पहलु में बैठ, कुछ गीत गुनगुनाने को जी चाहता

****************************************************
दिल की चौखट पे एक दीप जला रखना है,

तेरे आने का अरमान सजा रक्खा है।

तेरे जाने से जो धूल सी उठ चली थी ,

मैंने उस धूल को आंखों में बसा रक्खा है।

******************************************************
आंखों में तेरी तस्वीर सजाये बैठे हैं, दिल में तेरा ख्याल छुपाये बैठे हैं।

आ भी जाओ की देखने को दिल करता है , कई दिनों से पलकें बिछाये बैठे हैं।

**********************************************************