शुक्रवार, 11 जुलाई 2008

जो तुम्हारे लिए हैं लिखे वो तुमको ही करता हूँ समर्पित

मुझे भुलाना भी चाहोगे तो भुला ना पाओगे तुम ,
पलकों पे ठहर जाऊंगा मैं आंसुओ की तरह ।
मैं साँस हूँ जीने के लिए तेरे दिल में ,
बस जाऊंगा धरकन की तरह।
*****************************************
तेरी जुल्फें मेरे चेहरे पे गिरी जाती हैं ,
मेरी साँसे तेरी साँसों में डूब जाती हैं ।
तेरे बदन की खुशबु से ई जान -ऐ -अदा ,
साँसे भी महक महक जाती हैं।
********************************************************
बीत गई है रात , हो गई है प्रात ।
करनी है मुझको तुझसे प्यारी प्यारी बात ।
उठो जनम सुबह हो गई , मिल कर पियें चाय ,
एक दुसरे के प्यार में हम यु ही डूब जाए ।
*********************************************
आइये जनाब आ भी जाइये जनाब , मेरी आँख में ख्वाब सजाइए जनाब ।
मैं आपको लोरियां सुनाऊं , आप मेरे काँधे पे सर रख सो जाइए जनाब .
***************************************************************
आपके ख्यालों से फुर्सत नही मिलती ,
हमें एक पल की राहत नही मिलती ।
मिल तो जाता है सब कुछ ,
बस इतवार को झलक नहीं मिलती ।
*****************************************************************
तू जो एक बार मुझे छू ले तो मैं संवर जाऊं ,
तू जो एक बार मुझे तो मैं नज़र पाऊं ।
तेरे लिए सिर्फ़ लिखते हैं गीत हम , तेरे लिए सिर्फ़ उन्हें मैं गाऊँ ।
**************************************************************
आपकी याद आती रही रात भर ,
घटायें बरसती रही रात भर ,
रात भर बिजलियाँ करकराती रही ,
हम आपके साथ भींगते रहे रात भर ।
***********************************************************
मेरी आँख से दुनिया देखो सब कुछ अच्छा दिखेगा ,
रंग बिरंगे सपने होंगे मन में चैन रहेगा , तू कई जनम का साथी है मेरा ,
तू कई जन्मों का साथी रहेगा ।
********************************************************
चलो बारिश में भींग जाएँ ,
भीगते हुए एक दूजे की याद में खो जाएँ
चलो सो जाएँ , चलो सो जाएँ ।
********************************************************
मुझको तो आपका बस फरमान चाहिए ,
मौजूद जान भी है अगर जान चाहिए ।
कुछ भी रहा ना दिल में तेरी याद के सिवा ,
इस घर के वास्ते येही मेहमान चाहिए ।
************************************************************
रात भर मेरी गोदी में सर रख तुम लेटी रही,
रात भर मैं तुम्हारा सर सहलाता रहा ।
रात भर तुम चैन से सोती रही ,
रात भर मैं तुम्हे प्यार में नहलाता रहा ।
*********************************************************
सुबह हो गई अब उठ जाओ ,
आओ मेरे संग प्रेम गीत गाओ,
तुम दौर के आके मेरे सीने से लग जाओ ,
कभी कानो में मेरे चुपके से गुनगुनाओ ।
कभी शर्मा के दांतों में उँगलियाँ दबा ओ ,
कभी ऐसे आओ की लौट के ना जाओ ...
********************************************************