गुरुवार, 13 जनवरी 2011

तुम हो तुम्हारा ख्याल है और चाँद रात है....

कडाके की ठण्ड...कांपती सी हवा जो जम कर टंग सी गयी पेड़ों की फुनगियों पे....जंगल पहाड़ सब ऊंघ रहे हैं...चारों तरफ बिलकुल नीरवता व्याप्त है....दूर कहीं सड़क पे भागती हुयी गाड़ियों की आवाज़ सहसा जीवंत कर देती है पूरे माहौल को ....मन प्राण उड़कर तुम तक पहुचने को आतुर हो उठता है।
मेरी सांसें हैं की गर्म होकर ऊर्ध्वमुखी हो गयी और सुफेद बकुलों सी व्योम की गहराईयों में अपने पंख पसारे परवाज़ कर रही....ढूंढ रही है मेरी आँखें ...कुहासों के एक एक लिहाफ को उठा कर...सिर्फ तुमको...फूलों में,त्रिन्मूलों में,पादप श्रेणियों में,हर जगह बिखरी हुयी ओअस बूंदों में ढूंढता हूँ बस तुम्हारा ही चेहरा......
तुम हो, तुम्हारा ख्याल है और पिघलती रात है....कुहासे की चादर,ओअस की बूँदें और तुम्हारे प्यार में पगा ये प्रभात है।
****************************************************************
तुम हो,तुम्हारा ख्याल है और चाँद रात है....
सर पे नीला आसमान है और तारों से बुनी चादर ओढ़े चांदनी सी झिलमिल रात....हवाओं में तुम्हारी खिलखिलाहट की अनुगूंज मुझे मदहोश कर जाती है। मेरी आँखों के आगे तुम्हारे रूप का विस्तार किरणमयी हो जाता....मैं करवीर के गुंचों सा खिल जाता। मेरी सांसें सुरभित हो जाती तुम्हारी साँसों से...तुम चाँद हो जाती और मैं उस चाँद की आँख से ढलकी अश्रु की एक बूँद .... मोती सा जो तुम्हारी आँख की सीप में बंद हो जाना चाहता है...जीवन भर के लिए...तुम हो, तुम्हारा ख्याल है और चाँद रात है....महकी हुयी हवा...गुनगुनाती चांदनी और सजीली तारों की बारात है....
***************************************************************
तुम हो, तुम्हारा ख्याल है और महकी हुयी सुबह है...कुहसार की चादर ओढ़े नगर, शहर, गाँव...ढूंढ रहा है चंचल चपल सूर्य की नाचती रंगों की आभामयी गरम नरम छाँव...खेतों में सरसों के पीले फूल हवा के साथ अठखेलियाँ कर रहे...सब तरफ शान्ति है...धीरे धीरे सुबह का सूरज सरसों के पीले फूल सा फ़ैल गया चहुँ ओर ....ये तुम्हारा ख्याल है या अमलताश के बिखरे हुए फूल....ये तुम हो या सुबह की महकी हुयी हवा....ये तुम्हारा आलिंगन है या खुद को खुद में समेट लेने की चाह ....ये मेरे कानो में तुम्हारी आवाज़ की खनक है या किसी मंदिर में बजती घंटियों की झंकार....ये तुम मुझे बुला रही हो, या हवा तुम्हारी पाती मुझे पढ़ कर सुना रही है...
तुम हो, तुम्हारा ख्याल है और मदहोश करती सर्द हवा...ये तुम्हारे गेसुओं की खुशबु है जो बन गयी है मेरे हर दर्द की दवा ।
- नीहार
********************************************************************