गुरुवार, 15 मार्च 2012

नयन पलक ......

नयन पलक जब उठत हैं,
चहुँ बिखर जात हैं धूप
हर लेता मन का दुःख विषाद ,
प्रिया का अप्रतिम यह रूप
सब कुछ तो है पा लिया ,
पाय प्रिया का निश्छल प्यार
जीवन में नहीं अब कोई कमी,
जब से पायो प्रियतमा अनूप
मन से कभी मिट सका ,
तेरे दिव्य दरस की चाह
पल पल करता मन याद तुझे ,
पल पल उठती दिल में हूक
बिन तेरे सब कुछ सून है ,
ही रंग ही मधुर संगीत
तुझसे ही मुखरित वाणी मेरी,
बिन तेरे मैं तो रहता मूक
***********************
कौन है जो याद करता है मुझे ,
कौन है जो संग मेरे गा रहा -
कौन है जो उमड़ घुमड़ कर बादलों सा ,
मेरे प्यासमन को है तरसा रहा .....
किसकी आँखें देखती हर पल मुझे ,
कौन मेरे दिल की धड़कन सुन रहा -
किसकी साँसों में महक उठता हूँ मैं ,
कौन मेरे लब से रंगत चुन रहा .....
किसकी जुल्फें रात का साया बनी ,
कौन है जो मदहोश मुझको कर रहा -
किसकी आँखों के समंदर में डूब कर,
ज़िन्दगी का मय ये शायर है पी रहा ....
क्या कहूँ तुमसे मैं तुम सब जानती हो ,
जो भी है वो उसको तुम पहचानती हो -
आईना भी देता है तेरे प्रश्न का उत्तर,
पर इस हकीकत को नहीं तुम मानती हो.....
चलो कह ही देता हूँ की तुम मेरा प्यार हो ,
मेरी कविता में प्रतिबिंबित उदगार हो -
दिल की धडकनों में गुम्फित तुम हो प्रिये,
तुम ही मेरे जीवन का अद्भुत श्रृंगार हो....